Elaichi | Cardamom Plant in Pot

A healthy Elaichi|Cardamom plant in Pot of Soil.

Shipping facility for this product is not available. Only pickup facility is available.

Offer: To order call 8053000268.

Rs. 299.00

Out of stock

Category:

Description

इलायची|Elaichi|Cardamom is a perennial|वर्ष-भर रहनेवाला plant. It has rigid and erect खुशबूदार|aromatic leaves, which forms the aerial part of the plant’s तना|stems. In pot these stems are between 1.5 to 4 feet high and forms a canopy of leaves around the plant. Small cardamom flowers are beautiful and are usually white in color with a yellow or red strips over them. Cardamom fruits are called capsules. Inside the fruits there are seeds of the plant, which are actually used as spice.

Watering:
Cardamom grows in rainforest, these areas mostly receives rainfall 200 days annually. So it is essential to keep the soil constantly moist, don’t let the soil to dry out ever. In summer or when the plant is setting fruits, increase watering.

Fertilizer
Use organic fertilizer that is high in phosphorous and apply it twice a month during the growing season. Also supply aged manure or compost. Neem Spray is also recommended.

Problems
If the leaf tips turn brown, you either have underwatered it or humidity is low, to increase the humidity level spray the foliage. If overwatered, the roots begins to rot and plant starts to wilt. Brown spots can occur on leaves if plant is grown under too much sun. Yellowing leaves are usually a sign of too little fertilization or deficiency of iron.

इलायची के फायदे (Cardamom Health Benefits):
बहुत से लोग यह जानना चाहते हैं कि इलायची खाने से सेहत को कुछ फायदा होता भी है या नहीं? आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इलायची के फायदों की लिस्ट काफी लम्बी है और अगर आप नियमित रुप से इलायची की उचित खुराक का सेवन कर रहे हैं तो निश्चित तौर पर यह आपको स्वस्थ रखने में मदद करती है।

1- पाचन से जुड़ी समस्याओं से राहत (Cardamom for Digestion):
खराब खानपान और जीवनशैली के कारण आजकल हर कोई अपच, गैस, एसिडिटी और कब्ज़ जैसी समस्याओं से पीड़ित रहता है। ऐसे में कुछ घरेलू उपाय आपकी इन समस्याओं को काफी हद तक कम कर सकते हैं। कब्ज़ और एसिडिटी दूर करना भी इलायची के फायदे में शामिल है। इलायची में ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो पाचन तंत्र को दुरुस्त रखते हैं और पेट की जलन को कम करते हैं। जिससे एसिडिटी, अपच जैसी समस्याओं से आराम मिलता है।

2- हिचकी से आराम (Cardamom for Hiccups):
अक्सर ऑफिस में काम करते समय या किसी से बात करते समय अचानक से हिचकी (Hiccups) आने लगती है और उस समय आपको समझ ही नहीं आता कि हिचकी से कैसे आराम पाएं। आपको बता दें कि ऐसी हालत में इलायची आपके लिए काफी कारगर साबित हो सकती है। अगली बार जब हिचकी आये तो एक इलायची मुंह में डालें और कुछ देर तक उसे धीरे धीरे चबाते रहें, इससे हिचकी जल्दी बंद हो जाती है।

3- सर्दी-खांसी और गले की खराश से आराम (Cardamom for Throat infection):
मौसम बदलने पर या किसी तरह के संक्रमण की वजह से अक्सर लोग सर्दी-खांसी की चपेट में आ जाते हैं। कमजोर इम्युनिटी क्षमता वाले लोग बहुत जल्दी सर्दी की चपेट में आते हैं। सर्दी होने पर गले में खराश होने लगती है। इलायची का सेवन खांसी और गले की खराश से आराम दिलाने में फायदेमंद होता है। यही कारण है कि खांसी और सर्दी-जुकाम दूर करने की सबसे प्रमुख आयुर्वेदिक औषधि सितोपलादि चूर्ण में भी इलायची मौजूद होती है।
खुराक: गले की खराश दूर करने के लिए रात को सोने से पहले आधा से एक ग्राम इलायची चूर्ण को शहद के साथ मिलाकर खाएं। दो तीन दिन इसका सेवन करने से गले की खराश ठीक हो जाती है।

4- ब्लड प्रेशर कम करने में मदद (Cardamom for Hypertension):
एक अध्ययन के अनुसार, इलायची का रोजाना सेवन करने से ब्लड प्रेशर में कमी आती है। इस लिहाज से देखें तो जो लोग हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन के मरीज हैं उन्हें इलायची का नियमित सेवन करना चाहिए। इसमें मौजूद पोटैशियम और मैग्नीशियम जैसे खनिज पदार्थ ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं।

5- अस्थमा (Cardamom for Asthma prevention):
यह अस्थमा के मरीजों के लिए भी बहुत उपयोगी औषधि है। इलायची में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो फेफड़ों में खून के प्रवाह को ठीक रखते हैं जिससे फेफड़े स्वस्थ रहते हैं और खांसी या अस्थमा जैसी बीमारियों से बचाव होता है।

6- भूख बढ़ाने में मदद:
इलायची पाचन तंत्र को दुरुस्त रखती है जिस वजह से शरीर का मेटाबोलिज्म भी ठीक ढंग से काम करता है और भूख बढ़ती है। जिन लोगों को समय पर भूख ना लगने या कम लगने की समस्या है उन्हें इलायची (Cardamom) का सेवन करना चाहिए।

7– मुंह की दुर्गंध दूर करने में सहायक (Cardamom for Bad breath):

इलायची खाने के फायदे की बात की जाए तो हर किसी का जवाब यही होता है कि इससे मुंह की बदबू दूर होती है। यह बात पूरी तरह सच है और इसीलिए इलायची (Cardamom) का सबसे ज्यादा उपयोग माउथ फ्रेशनर के रूप में किया जाता है। अगर आप भी मुंह की बदबू से परेशान हैं तो इलायची के कुछ दाने ज़रुर खाएं।

8- उल्टी और मिचली से राहत (Cardamom for Nausea):
कुछ शोधों में इस बात की पुष्टि हुई है कि इलायची, सर्जरी के बाद आने वाली मिचली और उल्टी की समस्या से राहत दिलाती है। रिसर्च के अनुसार इलायची, अदरक और पुदीने को कॉटन की पट्टी में लपेटकर इसे सूंघने से सर्जरी के बाद होने वाली मिचली से आराम मिलता है। इसी तरह जिन लोगों को पहाड़ी रास्तों पर सफ़र के दौरान उल्टी या मिचली की समस्या होती है उन्हें सफर शुरु करने से पहले इलायची के कुछ दाने खाने चाहिए। यह मिचली और उल्टी रोकने का सबसे आसान घरेलू उपाय है।

9- तनाव दूर करने में फायदेमंद (Cardamom for Stress):
इलायची की सुगंध आपके मूड को तरोताजा बनाये रखती है। इसीलिए अधिकांश लोग सुबह सुबह इलायची की चाय का सेवन करते हैं। इलायची की चाय पीने से पेट और सांसो से जुड़े रोगों से तो छुटकारा मिलता ही है साथ ही ये तनाव को दूर करती है और मूड को फ्रेश बनाये रखती है। इसलिए स्ट्रेस या डिप्रेशन के मरीजों को स्ट्रेस भगाने के लिए रोजाना इलायची वाली चाय ज़रुर पीनी चाहिए।

नोट: इलाइची के ताजे व सूखे पत्ते भी इलाइची के दानो की तरह इस्तेमाल किये जा सकते है|

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Elaichi | Cardamom Plant in Pot”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like…

Green Tea Leaves
Rs. 120.00